आठवें/ अष्टम भाव में बुध/ ८ घर में बुध का फल-प्रेम, विवाह, यौन सम्बन्ध

Mercury In 8th House Love, Sex, Marriage, Career, Finance, Education

आठवें/ अष्टम भाव में बुध/ ८ घर में बुध का फल-प्रेम, यौन सम्बन्ध, विवाह, करियर, स्वास्थ्य, वित्त, शिक्षा, परिवार: –  कुंडली /  जन्म चार्ट के आठवें घर में बुध ग्रह – वैदिक ज्योतिष : आठवां घर जीवन के रहस्यों को दर्शाता है, परिवर्तन को दर्शाता है, मृत्यु जैसे अनुभव प्रतिनिधित्व करता है, बाधाएँ, साथी का वित्त, ऋण, स्वास्थ्य, दुर्घटना, अपमान, आदि। जन्म कुंडली में ८वें भाव में बुध ने संकेत दिता है कि जातक बहुत जिज्ञासु व्यक्तित्व का है।

 लग्न से अष्टम भाव में बुध ग्रह – सभी लग्नों के लिए

व्यक्ति किसी भी विषय या पदार्थ की गहराई तक जाना चाहता है और विशेष रूप से जीवन और प्रकृति के रहस्यों और अनकहे रहस्यों से संबंधित रहस्यों को सुलझाना चाहता है। यह जातक को जासूसी गतिविधियों जैसे किसी प्रकार की जांच से जुड़े व्यवसायों के लिए एकदम उपयुक्त बनाता है।

लग्न से अष्टम भाव में बुध-सभी लग्न के लिए-सामान्य प्रभाव :-  अष्टम भाव में डिग्री, हानिकर और लाभकारी गरिमा, आधिपत्य, दहन, वक्री, डिग्री , अशुभ और लाभकारी पहलू, पीड़ा, संयोजन, विभिन्न नक्षत्रों में बुध के साथ-साथ 8 वें घर में चंद्रमा की शक्ति और वैभव – सब भिन्न होते हैं इसीलिए अष्टम भाव में बुध का प्रभाव और परिणाम अलग-अलग राशियों में भिन्न-भिन्न हो सकते हैं ।

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम

इस घर में बुध किशोरावस्था में शिक्षा के क्षेत्र में कुछ कष्ट देगा। जातक अपने छात्र जीवन में एक या दो बार विफल हो सकता है। आठवें भाव में बुध जातक को बौद्धिक रूप से तेज़, अच्छी/ सभ्य प्रकार से बोलने वाला, चालाक, चतुर, मजाकिया और कभी-कभी धूर्त बनाता है। अष्टम भाव में स्थित बुध भी जातक के जीवन में अच्छी मात्रा में नकद-सम्पत्ति की बचत का कारण बनता है।

इस घर में बुध आपको विदेश में भी ले जा सकता है और आप विदेश में पर्याप्त धन अर्जित कर सकते हैं। ८वें घर में बुध आपको खेलों के कारण लोकप्रिय भी बना सकता है लेकिन बहुत कम समय के लिए। सिनेमा जगत में आप कैमरे के पीछे रहकर काम कर सकते हैं। आप एक अद्भुत पटकथा लेखक और संवाद लेखक बन सकते हैं।

वैदिक ज्योतिष में आठवें घर में बुध – प्रेम संबंध

कुंडली/ नेटल चार्ट में बुध आठवें घर में और आपका प्रेम जीवन :- व्यक्ति का प्रेम जीवन रोमांचक होगा और कम उम्र से ही घटित होना प्रारम्भ होगा। जीवन के पहले कुछ मामलों के दौरान उस का दिल टूट जाएगा क्योंकि रोमांटिक पार्टनर आपको धोखा दे सकते हैं लेकिन २५ साल की उम्र के बाद अपने सच्चे प्यार या जीवनसाथी को पाने की संभावना अधिक होगी। सामाजिक और पारिवारिक स्वीकृति से आप अपने प्रेम संबंध को विवाह में बदलेंगे। शादी के बाद आपकी आमदनी बढ़ सकती है।

कुंडली/ नेटल चार्ट के ८वें घर में बुध – आपका विवाह

लग्न से आठवें घर में बुध और आपका विवाह/विवाहित जीवन/साथी/जीवनसाथी:- जीवनसाथी बहुत आकर्षक, देखने में बहुत अच्छा और जातक के प्रति बहुत प्यार करने वाला और जुड़ा हुआ होगा। दांपत्य जीवन आनंदमय और सौहार्दपूर्ण रहेगा। कपल/ दंपत्ति के बीच काफी विश्वास और आपसी समझ रहेगी।

जीवनसाथी सक्रिय रहेगा और उज्ज्वल और बुद्धिमान बच्चों के साथ आपकी मुस्कान और खुशी का कारण बनेगा। जीवनसाथी भी जातक के व्यवसाय या पेशे में गहरी दिलचस्पी लेगा। जीवनसाथी का स्वभाव बहुत सहयोगी, निष्ठावान और कदम के साथ कदम मिलाकर चलने वाला होगा। इस घर में बुध जीवनसाथी और बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी समस्या देता है। शयन-सुख और यौन गतिविधियों के दौरान शारीरिक अनुकूलता की कमी हो सकती है। जातक और उसका जीवनसाथी शारीरिक रूप से एक दूसरे के संतुष्टि देने या पूरक हो सकते हैं।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम

कुंडली के आठवें घर में बुध ग्रह और करियर

कुंडली के डी 1 चार्ट में ८वें घर में बुध और कैरियर :- ८वें घर में बुध तत्वमीमांसा/ मेटाफिज़िक्स, सम्मोहन, ध्यान, योग, मनोगत शिक्षण से संबंधित रोज़गार या पेशा देता है। इस घर में बुध उच्च मानसिक शक्ति और अंतर्ज्ञान के साथ एक अच्छा और सफल ज्योतिषी बनाता है। जातक मनोवैज्ञानिक भी बन सकता है या रेलवे या विमानन के क्षेत्र में सरकार के अधीन काम कर सकता है।

जातक व्यापारी भी बन सकता है और गहनों का व्यापार भी कर सकता है। यांत्रिक और हार्डवेयर उद्योग या लकड़ी और एल्यूमीनियम उद्योग के व्यवसाय जातक को धनि बनाएंगे। कार्यक्षेत्र से जुड़ी कोई छोटी और लंबी दूरी की यात्रा हो सकती है। आप एक अद्भुत पटकथा लेखक और संवाद लेखक भी बन सकते हैं। आप जीवन में एक उपन्यास लिख सकते हैं।

यह भी पढ़ें : ज्योतिष में छठे भाव पर विभिन्न ग्रहों की दृष्टि

कुंडली में ८वें घर में बुध और यौन संबंध

जातक का यौन जीवन अधिक रोमांचक और सुसंगत नहीं होगा क्योंकि जातक में शयन सुख में ऊर्जा और आत्मविश्वास की कमी होगी। जातक एक से अधिक साथी के साथ शारीरिक संबंध की तलाश कर सकता है लेकिन यौन क्रिया में विपरीत लिंग को संतुष्ट करेगा। जातक के यौन जीवन और निजी अंगों में समस्याएँ और बाधाएँ होंगी। इन जातकों के लिए शुक्राणुओं की संख्या में कमी या प्रजनन अंगों में समस्या हो सकती है।

 कुंडली में बुध अष्टम भाव में – वित्तीय संबंध 

इस घर में बुध निवेश और रियल एस्टेट से लाभ देता है। जातक विरासत के माध्यम से धन और शक्ति प्राप्त कर सकता है। जातक रिश्तेदारों, ससुराल वालों या सरकार से भी घर, कार्यालय, शोरूम, दुकान, व्यवसाय और बहुत अधिक नकद सम्पत्ति अर्जित कर सकता है। जातक वंशज और परिवार की विरासत के माध्यम से पैसा कमाएगा । ४० वर्ष की आयु के बाद जातक धनवान होगा।

वैदिक ज्योतिष में आठवें घर में बुध – आपका परिवार 

जातक का पारिवारिक जीवन शांतिपूर्ण और सौहार्दपूर्ण रहेगा। जातक घर पर प्रसन्नता, तृप्ति और आराम का अनुभव करेगा। जातक अंतर्मुखी और घर के अंदर रहने वाला व्यक्ति होगा जो हमेशा घर पर ज़्यादा समय बिताना पसंद करेगा या घर से काम करना पसंद करेगा। माता-पिता, भाई-बहन और रिश्तेदारों का मानसिक, भावनात्मक और आर्थिक रूप से बहुत सहयोग मिलेगा। जातक को उनकी शिक्षा, पेशे और लंबी दूरी की यात्रा में परिवार के सदस्यों का समर्थन प्राप्त होगा।

यह भी पढ़ें : कुंडली में बुधादित्य योग – 12 भावों में इसका प्रभाव

जन्म कुंडली/कुंडली में आठवें भाव में बुध और आपका स्वास्थ्य

फेफड़े व श्वसन तंत्र में दिक्कत रहेगी। यदि धूम्रपान और शराब पीने की लत लग जाती है तो ऐसे जातकों के फेफड़े और लीवर खराब हो सकते हैं। नशा करने की प्रवृत्ति रहेगी। जीवन के मध्य आयु में अस्थमा या सांस लेने में समस्या हो सकती है।

माइग्रेन या ब्लड सर्कुलेशन में परेशानी से बचने के लिए जातक को दवा की आवश्यकता होगी। कम उम्र में गठिया और चर्म रोग आपको परेशान कर सकते हैं। व्यक्ति किसी न किसी तरह से मृत्यु से संबंधित मामलों से जुड़ा हो सकता है जैसे वसीयत लाभार्थी, कब्रिस्तान, एक आपराधिक जांच, अंतिम संस्कार गृह, आदि। सांस की विफलता, होश खोने, जानवरों के हमले, डूबने, या लंबी दूरी की यात्राके कारण जातक की मृत्यु हो सकती है।

ज्योतिष में कुंडली के अष्टम भाव में बुध का विशेष प्रभाव

जब बुध आठवें घर में रेट्रोग्रेड/ पतित गति में होता है, तो जातक को अपने भोग, शराब, यौन गतिविधि और किसी भी प्रकार की फिजूलखर्ची की ओर झुकाव को नियंत्रित करने की आवश्यकता होती है। धर्म, जादू-टोना और मन की उच्च स्थिति से संबंधित मामलों में जातक का रवैया अपरंपरागत और अस्पष्ट भी हो सकता है। वह जिस धर्म का अभ्यास करता है उस के बारे में संदिग्ध और भ्रमित रह सकता है।

व्यक्ति किसी न किसी तरह से मृत्यु से संबंधित मामलों से जुड़ा हो सकता है जैसे वसीयत लाभार्थी, कब्रिस्तान, एक आपराधिक जांच, अंतिम संस्कार गृह, आदि। सांस की विफलता, होश खोने, जानवरों के हमले, डूबने, या लंबी दूरी की यात्रा के समय के कारण जातक की मृत्यु हो सकती है। उसे अनुबंध, विवाह और विरासत के माध्यम से धन और अन्य लाभ मिलने की भी संभावना है।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम

We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.