ज्योतिष कुंडली में दिवालियापन/ अर्थहीनता का योग और उनके उपाय

Bankruptcy In Vedic Astrology-Combinations In Horoscope With Remedy

वैदिक ज्योतिष जन्म कुंडली में दिवालियापन/ अर्थहीनता का योग और उनके उपाय: दिवालियापन एक बहुत ही सामान्य घटना है जो इस दुनिया में हर तीसरे या चौथे व्यक्ति के जीवन में होती है। दिवालियापन को दो भागों में परिभाषित किया जा सकता है। दिवालियापन का पहला प्रकार तब होता है जब आप कुछ दिनों या कुछ घंटों के भीतर पैसे का एक बड़ा हिस्सा खो देते हैं। इस प्रकार का दिवालियापन केवल उन अमीर लोगों के लिए होता है जिन्होंने कई वर्षों में टन धन जमा किया है। आप यह सब कुछ अचानक हुई घटनाओं के माध्यम से खो देते हैं या आप कह सकते हैं कि उनके भाग्य या किस्मत के पतन के माध्यम से।

दूसरे प्रकार का दिवालियापन तब होता है जब आप लगातार कड़ी मेहनत करके पैसा कमाने की कोशिश कर रहे होते हैं लेकिन एक महत्वपूर्ण राशि को बचाने या जमा करने में असमर्थ होते हैं। यह सूखता हुआ बैंक बैलेंस कठिन भाग्य या प्रयास करने के बाद भी कम आय के कारण होता है। दिवालियापन एक आम खतरा है जो अमीर और मध्यम वर्ग के लोगों को परेशान करता है। दिवालियापन आपको जीवन में दरिद्र बना सकता है।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

वैदिक ज्योतिष कुंडली में दिवालियापन/ अर्थहीनता का योग और उनके उपाय

अब, ज्योतिष के लेंस के माध्यम से, मैं दिवालिएपन के कारणों और समय की भविष्यवाणी करने की कोशिश करूँगा।

  • ज्योतिष में दिवालिएपन को दर्शाने वाले ग्रह:-  राहु और केतु जैसे छाया ग्रहों के साथ बृहस्पति , शनि और बुध अमीर लोगों के पतन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि ये ग्रह जब चार्ट में खराब होते हैं तो जीवन में भाग्य और समृद्धि की हानि कर सकते हैं। बहुत कम समय में।
  • जीवन में दिवालिएपन को दर्शाने वाले योग:-  कुंडली में दरिद्र योग, ग्रहण योग, केमद्रुम योग और कालसर्प योग उच्च पद से पतन या जीवन में दिवालियापन का कारण बनते हैं। राहु और केतु ग्रहन योग का कारण बनते हैं जब वे कुंडली में चंद्रमा या सूर्य की युति करते हैं।

यदि जन्म कुंडली में चंद्रमा के दोनों ओर या चंद्रमा के साथ कोई ग्रह नहीं है तो यह केमद्रुम योग का कारण बनता है। उदाहरण के लिए- चंद्रमा नौवें घर में है और 10वें या 8वें घर में या चंद्रमा के साथ कोई ग्रह नहीं है।

यदि द्वितीय भाव का स्वामी 12वें भाव में स्थित हो या इसके विपरीत हो तो यह दरिद्र योग का कारण बनता है। साथ ही यदि 11वें भाव का स्वामी 12वें भाव में या 12वें भाव का स्वामी 11वें भाव में स्थित हो तो यह दरिद्र योग भी बनाता है।

  • जीवन में दिवालियापन में आधिपत्य की भूमिका ज्योतिष में:-  11वें स्वामी का 12वें भाव में या 12वें स्वामी का 11वें भाव में स्थित होना जीवन में दिवालियापन का कारण बन सकता है। जीवन में बहुत उच्च, समृद्ध और अभिजात्य संपन्नता से किसी को धन की महत्वपूर्ण हानि और कभी-कभी कुल दिवालियापन का सामना करना पड़ सकता है। अष्टमेश का चतुर्थ भाव या नवम भाव में स्थान भी ऐसा ही कर सकता है। यदि नवमेश और पंचमेश आठवें या बारहवें भाव में हैं तो यह आपको जीवन में बड़ी गिरावट और धन की महत्वपूर्ण हानि दे सकता है। हालाँकि, यह दशा कारक के साथ-साथ आपके लग्न पर भी निर्भर करता है।
    • 8वें या 12वें भाव में लग्नेश भी जीवन में बड़े पतन और दिवालियापन का कारण बन सकता है। उदाहरण-अनिल अंबानी जिनका मकर लग्न है और उनका प्रथम स्वामी शनि 12वें भाव में स्थित है। उनका पतन 2014 के बाद हुआ जब शनि महादशा शुरू हुई।
  • विभिन्न घरों में ग्रह दिवालियापन का कारण बनते हैं: –  शनि, राहु, केतु, या बुध 12 वें घर में या 8 वें घर में जीवन में दिवालियापन का कारण बन सकता है। यदि उनके जीवन में शनि, राहु, केतु या बुध की महादशा चल रही है। नवम भाव में राहु और तीसरे भाव में केतु भी जीवन में धन की बड़ी हानि करा सकता है।

उदाहरण : अनिल अंबानी:- अनिल अंबानी दिवालिया हो गए जब 2014 में उनके जीवन में शनि की मुख्य दशा शुरू हुई और उनके 12 वें स्वामी बृहस्पति 11 वें घर में विराजमान हो गए।

ज्योतिष में दिवालियापन में दशा कारक:-  बुध, शनि, राहु और केतु की दशा यदि कुंडली में खराब हो तो यह जीवन में हमेशा अपमान और दिवालियापन का कारण बनती है। शनि, राहु, केतु या बुध की मुख्य या अंतर्दशा हमेशा दिवालियापन का कारण बनती है। 8वें स्वामी या 12वें स्वामी की दशा दिवालियापन में एक प्रमुख भूमिका निभाती है। हालांकि, कभी-कभी लग्नेश (प्रथम भाव) या 7वें भाव के स्वामी की दशा भी 8वें या 12वें भाव में होने पर गरीबी और धन हानि का कारण बन सकती है।

दिवालियापन या धन की हानि के लिए सामान्य ग्रह संयोजन: –  केतु के साथ चंद्रमा या सूर्य। बुध और शनि एक साथ आठवें या बारहवें भाव में हों। कुछ कुण्डली में राहु दूसरे या आठवें भाव में है। राहु के साथ सूर्य या चन्द्रमा लौकिक हानि और लौकिक लाभ भी देता है। 8वें या 12वें भाव में स्थित गुरु भी धन और पद की हानि दे सकता है।

ग्रह संयोजन/ योग जो लग्न के अनुसार दिवालियापन का कारण बन सकता है

  • मेष लग्न और ज्योतिष में दिवालियापन:-  मेष लग्न के लिए यदि मंगल और शुक्र 12वें भाव में हों या शनि 12वें भाव में हो तो दिवालियापन और अपमान की संभावना होती है। 8वें या 12वें भाव में बृहस्पति भी धन की महत्वपूर्ण हानि करा सकता है।
  • वृष लग्न और कुंडली में दिवालियापन: -वृषभ राशि के जातकों के लिए तीसरे या आठवें भाव में शुक्र या बुध और शनि 12वें भाव में प्रतिष्ठा और दिवालियापन की हानि हो सकती है।
  • मिथुन लग्न और कुंडली में दिवालियापन:- मिथुन राशि के जातक बुध या शनि के बारहवें या तीसरे भाव में होने से दिवालिया हो सकते हैं।
  • वैदिक ज्योतिष में कर्क लग्न और दिवालियापन:-  कर्क राशि के जातकों का चंद्रमा और गुरु के बारहवें भाव में होने पर दिवालियापन हो सकता है। साथ ही यदि सूर्य या शुक्र आठवें भाव में हों।
  • वैदिक ज्योतिष में सिंह लग्न और दिवालियापन:- बुध के साथ 12वें भाव में सूर्य सिंह लग्न के जातकों के लिए दिवालियापन का कारण बन सकता है। आठवें घर में शनि और चंद्रमा या बुध प्रतिष्ठा और स्थिति की हानि के साथ ऐसा ही कर सकते हैं।
  • कन्या लग्न और कुंडली में दिवालियापन:-  बुध और शनि आठवें या 12वें भाव में हों और शुक्र छठे भाव में हों तो प्रतिष्ठा और दिवालियापन की हानि हो सकती है।
  • तुला लग्न/ लग्न और कुण्डली में दिवालियापन:- प्रथम भाव में केतु, नवम भाव में केतु या 12वें भाव में शुक्र तुला लग्न के लिए दिवालियापन का कारण बन सकता है। 12वें भाव में सूर्य भी यहां बड़ा नुकसान करता है।
  • वृश्चिक लग्न और जन्म कुंडली में दिवालियापन:- बृहस्पति या मंगल 12वें भाव में और राहु 9वें भाव में होने से वृश्चिक राशि वालों के जीवन में दिवाला निकल सकता है। तीसरे भाव में बुध यहां भी ऐसा ही कर सकता है।
  • धनु लग्न/लग्न और ज्योतिष में दिवालियापन:-  गुरु और शनि 12वें भाव में या बुध 8वें भाव में होने से धनु राशि के जातकों के जीवन में दिवालियापन हो सकता है।
  • वैदिक ज्योतिष में मकर लग्न और दिवालियापन :- 12वें भाव में शनि, 11वें भाव में बृहस्पति और 9वें भाव में राहु मकर राशि के जातकों के जीवन में दिवालियापन का कारण बन सकता है।
  • कुम्भ लग्न और कुंडली में दिवालियापन:-  दूसरे भाव में शनि और 8वें या 12वें भाव में गुरु कुंभ राशि के जातकों के लिए दिवालियापन का कारण बन सकता है।
  • मीन लग्न/लग्न और ज्योतिष में दिवालियापन:- तीसरे भाव में केतु और 12वें भाव में शनि दिवालियापन दे सकता है। कभी-कभी मीन राशि के जातकों के लिए 12वें भाव में बुध या मंगल और 11वें भाव में स्थित शनि भी जीवन में कई बार दिवालियापन दे सकता है।

ज्योतिष में दिवालियापन तक की आर्थिक समस्या से छुटकारा पाने के उपाय

  • एक बहुत ही सरल उपाय मैं आपको बता सकता हूँ वो है – “हनुमान चालीसा” का पाठ करना। प्रतिदिन कम से कम एक बार अवश्य पढ़ें। यदि आप इसे दो बार पढ़ सकते हैं तो यह और भी अच्छा होगा। कृष्ण पक्ष के किसी भी कमजोर व्यक्ति के मंगलवार से “हनुमान चालीसा” पढ़ना शुरू करें। अति शीघ्र फल पाने के लिए “ब्रह्मचर्यब्रतम्” का पालन करें। यह एक बहुत ही प्रभावी प्रक्रिया है और कई लोगों पर सफलतापूर्वक इसका परीक्षण किया गया है। पढ़ते समय आपको एक बात का ध्यान रखना है कि – आपका पूरा ध्यान पढ़ने पर होना चाहिए न कि कहीं और। 
  • यह प्रक्रिया थोड़ी उन्नत स्तर की है। इस “साधना” को “चक्र साधना” कहा जाता है। ऋण के लिए मुख्य जिम्मेदार ग्रह का पता लगाएं और फिर उस “चक्र” को सक्रिय करें जिसका प्रतिनिधित्व उस ग्रह द्वारा किया जाता है। यदि आप इस प्रक्रिया को चुनना चाहते हैं तो आप मुझे बता सकते हैं, मैं आपको जानकारी देकर निश्चित रूप से आपकी मदद करूंगा। हमेशा याद रखें – “चक्र साधना” किसी अनुभवी व्यक्ति की देखरेख में ही करें, अन्यथा यह आपके लिए हानिकारक हो सकती है। कुछ लोग सोचते हैं कि – केवल “चक्र” या “ऊर्जा केंद्रों” पर एकाग्रता ही उन्हें सक्रिय करने के लिए पर्याप्त है। यह आंशिक रूप से सच है। मानसिक एकाग्रता पूरी प्रक्रिया का सिर्फ एक हिस्सा है लेकिन केवल एकाग्रता आपको वांछित परिणाम नहीं देगी। 
  • अंत में, मैं रत्नों की सिफारिश करूंगा। याद रखें रत्न धारण करने से आप जिस ग्रह विशेष को बल देते हैं। अत: अपनी कुंडली के अनुसार उन ग्रहों के रत्न न पहनें जो आपको कर्ज में डालने के लिए जिम्मेदार हैं। उस ग्रह का रत्न धारण करें जो आपको इस प्रकार की परिस्थितियों से बचा सके। अपनी कुंडली से उन संबंधित ग्रहों का पता लगाने का प्रयास करें।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.