बुध का नवम/ ९ बे भाव में फल और आपका – प्रेम, विदेश यात्रा, करियर, विवाह

Mercury in 9th House Love, Career, Marriage, Foreign Travel, Finance

बुध का नवम/ ९ बे भाव में फल और आपका – प्रेम, विदेश यात्रा, करियर, विवाह, स्वास्थ्य, वित्त, परिवार, शिक्षा और उच्च अध्ययन : वैदिक ज्योतिष में कुंडली/ जन्म कुंडली के नवम भाव में बुध ग्रह: नवम भाव विदेश यात्राओं, पिता की भलाई, दूरी, सौभाग्य, आध्यात्मिक खोज और प्रयास, उच्च शिक्षा, उच्च ज्ञान, आदि का कारक होता है। जब बुध किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली के नौवें भाव में स्थित होता है, तो जातक का झुकाव भौतिकवादी के साथ-साथ आध्यात्मिक खोज की ओर भी होगा।

 लग्न से नवम भाव में बुध ग्रह – सभी लग्नों के लिए

वास्तव में नवम भाव में बुध के सकारात्मक प्रभाव के कारण व्यक्ति आध्यात्मिक वक्ता बन सकता है जो संचार और समन्वय में अद्भुत क्षमता प्रदान करता है और जनता या बड़े दर्शकों के व्यवहार और विचार प्रक्रिया को प्रभावित करता है। जातक कभी-कभी छोटी-छोटी बातों को लेकर तनाव में आ सकता है और कभी-कभी अति-प्रतिक्रिया या बहुत ही ज़्यादा विचार कर सकता है। ऐसे जातकों के पास विशाल ज्ञान होने की संभावना होती है और वे सकारात्मक तरीके से कई लोगों के लिए प्रभावशाली और प्रेरणा बन सकते हैं।

लग्न से नौवें घर में बुध-सभी लग्न के लिए:-  नौवें घर में बुध का प्रभाव एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति पर अलग-अलग हो सकता है क्योंकि नौवें घर में अलग-अलग राशियों की स्थिति, बुध की गरिमा, डिग्री, शक्ति, प्रभुत्व, बुध अलग-अलग नक्षत्र में है। पीड़ा, युति, बुध पर अशुभ या लाभकारी पहलू, संयोजन, अष्टकवर्ग अंक, आदि।

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम

नवम भाव में स्थित बुध जातक को धनवान और व्यावसायिक के साथ-साथ भौतिकवादी बनाता है। वे हमेशा अपनी प्रतिभा का उपयोग अधिक से अधिक धन निकालने के लिए करना चाहते हैं। ये जन  जीवन में बहुत ही व्यावसायिक भौतिकवादी दृष्टिकोण रखते हैं। वे धन उद्यत लोग हैं। नौवें भाव में बुध के साथ जातक कई काम करने और कई स्रोतों से कमाई करने में माहिर होता है । ये जातक अपनी वाणी का व्यावसायीकरण करते हैं।

कुंडली में बुध नवम भाव में और वैदिक ज्योतिष में प्रेम संबंध

नवम भाव में बुध प्रेम संबंधों में सफलता और संतुष्टि देता है। जातक को किशोरावस्था से ही प्यार हो जाता है और जातक को जीवन में बहुत पहले ही अपना सही साथी या जीवनसाथी मिल जाता है। जातक को अपने प्रेम संबंधों से बहुत आनंद प्राप्त होगा। लव पार्टनर स्नेही, देखभाल करने वाले, वफ़ादार और जातक के प्रति समर्पित होंगे। जातक अपने जीवनसाथी के साथ विवाह कर सकता है जो अंततः प्रेम विवाह का कारण बनेगा। लव लाइफ स्कूल के दिनों से ही खिलखिलाने लगेगी।

यह भी पढ़ें : कुंडली में बुध का वक्री होना- क्या करें और क्या न करें

कुंडली के नौवें भाव में बुध और विवाह

जीवनसाथी/ पति/ पत्नी: जातक का वैवाहिक जीवन उज्ज्वल बच्चों और एक बहुत ही वफादार प्यार करने वाले जीवनसाथी के साथ सौहार्दपूर्ण और खुशहाल होगा । जीवनसाथी नौकरी भी करेगा और साथ ही घरेलू प्राथमिकताओं का भी ध्यान रखेगा।

जीवनसाथी बातूनी होगा और जातक के प्रति सच्चा और ईमानदार होगा। दांपत्य जीवन खुशियों और परिपूर्णता की भावना के साथ लंबे समय तक चलने वाला रहेगा। जातक और जीवनसाथी दोनों एक-दूसरे के लिए प्रतिबद्ध होंगे, लेकिन विशेष रूप से जातक के सोशल मीडिया पर आकस्मिक छेड़खानी की प्रवृत्ति कभी-कभी अपने जीवनसाथी को नाराज़ कर सकती है। कुल मिलाकर जातक बहुत शांतिपूर्ण संतोषजनक वैवाहिक जीवन का आनंद उठाएगा।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ज्योतिष में बुध नौवें घर में – विदेश यात्रा

नवम भाव में बुध जातक को विदेशों या जन्म स्थान से दूर के स्थानों में उच्च शिक्षा प्राप्त कराता है। वह अपने जन्म स्थान से दूर, कॉलेज और उच्च शिक्षा प्राप्त करता है।

नवम भाव में स्थित बुध जातक को अपनी विद्या और बुद्धिमत्ता के कारण अधिकतर दूर स्थानों पर और कुछ को विदेश में रोजगार देता है। जीवन में काम और करियर के कारण कई छोटी यात्राएँ भी होंगी। जातक विदेशी स्थानों पर कुछ सुखद और आनंदमय विदेश यात्राओं से भी गुजरेंगे और उनको अनुभव करेंगे।

यह भी पढ़ें : ज्योतिष में विवाह की समस्या

कुंडली के नवम घर में बुध और आपका करियर

इस घर में बुध जातक को एक उत्कृष्ट और लोकप्रिय शिक्षक,प्रोफ़ेसर, व्याख्याता आदि बना सकता है। इस घर में बुध जातक को बैंकिंग क्षेत्र या व्यवसाय प्रबंधन, विपणन/ मार्केटिंग आदि के क्षेत्र में शीर्ष पदों पर पहुँचा सकता है। इस घर में बुध बहुत धन और समृद्धि के साथ जातक अपने स्वयं के व्यवसाय में चमत्कार भी कर सकते हैं।

इस घर में बुध ३२ वर्ष की आयु के बाद जातक को अपने पेशे में कार्यकारी या प्रबंधन स्तर की ऊंचाई देता है। शिक्षा क्षेत्र में जातक का करियर जीवन में बहुत अच्छी प्रगति प्रदान करता है।

इस घर में बुध आपको धर्म या अध्यात्म के क्षेत्र में विद्वान या वक्ता बना सकता है। जातक एक उत्कृष्ट लेखक, संपादक, पत्रकार, उपन्यास-लेखक, सामग्री निर्माता, ब्लॉगर या प्रकाशक भी बन सकता है।

यह भी पढ़ें : बृहस्पति पहले भाव में – प्यार, करियर, विवाह और भी बहुत कुछ

कुंडली के नवम भाव में बुध – वित्तीय संबंध 

नकद सम्पत्ति की बचत से जातक की आर्थिक स्थिति अत्यंत मजबूत होगी। जातक कई स्रोतों से आय अर्ज़ित करेगा और विवाह और रिश्तेदारों से भी लाभ होगा । ससुराल पक्ष के साथ-साथ भाई-बहनों का भी आर्थिक सहयोग प्राप्त होगा।

जातक ३४ वर्ष की आयु के बाद अच्छी मात्रा में धन अर्जित करेगा। जीवनसाथी भी आपको आर्थिक रूप से मदद कर सकता है और जीवन के मध्य वर्षों में समृद्धि आपके साथ रहेगी। जातक की आय बड़ी होगी और जातक स्वतंत्र रूप से ख़र्च करेगा किंतु जातक के पास जीवन में बचत और पर्याप्त नकद सम्पत्ति होगा।

यह भी पढ़ें : ग्रहों के योग से उत्तम धन, संपत्ति, करियर के लिए

जन्म कुण्डली में बुध नौवें भाव में – आपकी शिक्षा

इस घर में बुध जातक के उच्च शिक्षा और मास्टर्स/ स्नात्तकोत्तर उपाधि में डिग्री प्राप्त करने या पीएचडी करने के प्रति झुकाव को दर्शाता है। इस घर में बुध जातक को धार्मिक पुस्तकें और पाठ लिखने और अध्यात्म और योग सहित अन्य उच्च दर्शनशास्त्र लिखने में भी मदद करता है।

इस घर में बुध साहित्य या प्रबंधन क्षेत्र में उच्च पदवी देता है। जातक व्यावसायिक अध्ययन में उच्च या उच्चतम डिग्री प्राप्त कर सकता है।

डी1 चार्ट/कुंडली में बुध नौवें भाव में – आपका स्वास्थ्य

इस घर में बुध जातक को अच्छी प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ बहुत स्वस्थ बनाता है और कोई बड़ी स्वास्थ्य जटिलता जातक को जीवन में परेशान नहीं करेगी। जिमिंग और योग से जातक शारीरिक रूप से तंदुरुस्त होगा लेकिन कभी-कभी रीढ़, कमर, जोड़ों, हड्डियों और नसों में समस्या हो सकती है। जातक किसी भी बीमारी या वायरल बुख़ार से बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा लेकिन नियमित खांसी और जुकाम से पीड़ित रहेगा।

यह भी पढ़ें : हस्तरेखा ज्योतिष में विवाह रेखा

बुध कुंडली के ९वें भाव में- आपका पारिवारिक जीवन

जातक बचपन से ही एक शानदार जीवन शैली का आनंद लेगा क्योंकि जातक एक समृद्ध परिवार में पैदा होगा और जातक के पिता के पास समाज में शक्ति और संपन्नता होगी। जातक बचपन से ही आराम और समृद्धि का आनंद उठाएगा और खुद पर बहुत अधिक खर्च करेगा।

पिता भी वैभवशाली जीवन व्यतीत करेंगे और घर का वातावरण सौहार्दपूर्ण और आनंदमय रहेगा। पिता व्यवसायी होंगे और जातक के जन्म के बाद पिता के समृद्धि व ऐश्वर्य में वृद्धि होगी।

जन्म कुंडली में नवम भाव में बुध का विशेष प्रभाव

यदि नवम भाव में बुध पीड़ित हो तो जातक अपनी बुद्धि का प्रयोग नीच कार्यों में या किसी भी प्रकार के जुए या आपराधिक गतिविधियों में कर सकता है। जातक ३५ वर्ष की आयु से पहले विदेश यात्रा करेगा। जातक जीवन में कई अलग-अलग भाषाओं को सीखने और बोलने में कुशल हो सकता है।

इन जातकों का जीवन के कुछ पहलुओं जैसे धर्म, दर्शन, ध्यान, योग, आध्यात्मिकता, विदेशी मामलों, मुक़दमेबाज़ी और विदेश यात्रा के प्रति एक मजबूत झुकाव और जुड़ाव होता है। ये जातक अनुवादक, शिक्षक, आध्यात्मिक नेता जैसी भूमिकाओं के लिए उपयुक्त हो सकते हैं या विज्ञापन एजेंसी में विज्ञापनदाता, कॉपीराइटर के रूप में काम कर सकते हैं।

ज्योतिषी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.