कुंडली में विवाह का समय जानने का आसान तरीका – वैदिक ज्योतिष

Timing Of Marriage In Vedic Astrology - Horoscope Prediction

कुंडली में विवाह का समय जानने का आसान तरीका – वैदिक ज्योतिष में विवाह का समय: वैदिक ज्योतिष के अनुसार विवाह का समय: शास्त्रों में वर्णित विवाह के सटीक समय को निर्धारित करने के लिए बहुत सारे विवाह योग या योग हैं। सटीक समय प्राप्त करने के लिए न्याय करने से पहले जन्म कुंडली को बहुत सावधानी से आंका जाना चाहिए कि क्या जातक का विवाह होना तय है या नहीं। यदि विवाह के निश्चित योग बन रहे हैं तभी समय का ध्यान रखना चाहिए। नीचे मैं विवाह का सही समय जानने के लिए कुछ महत्वपूर्ण योगों का उल्लेख कर रहा हूँ जो विवाह के समय की भविष्यवाणी में मदद करेंगे।

यदि गोचर में बृहस्पति निम्न में से किसी से होकर गुजरता है या उसकी दृष्टि पड़ती है:

सप्तम भाव, सप्तमेश शुक्र और पाप ग्रह का कोई बुरा प्रभाव न हो तो विवाह पक्का होता है।

ज्योतिषी जी से बात करें

यदि जन्म कुण्डली में कोई पाप ग्रह लग्न भाव या लग्न पर शासन करने वाले ग्रहों से किसी प्रकार का संबंध बनाता है और गोचर में भी उसी पाप ग्रह पर दृष्टि डालता है या उस भाव या ग्रह से गुजरता है तो विवाह पक्का हो जाता है। लेकिन, याद रखें कि यदि किसी अन्य पापी ग्रह ने जन्म कुंडली में किसी भी विवाह शासक घर के साथ कभी कोई संबंध नहीं बनाया है, लेकिन पारगमन में है तो वह ग्रह विवाह भावों या ग्रहों को प्रभावित कर रहा है इसलिए विवाह रद्द हो जाएगा।

जब आप अपनी कुण्डली से विवाह का समय जानने की कोशिश कर रहे हैं, तो आपको हमेशा यह याद रखना होगा कि, सप्तम भाव, सप्तमेश शुक्र, शुक्र से सप्तम, चंद्रमा और चंद्रमा से सप्तम, और उनसे संबंधित ग्रह तस्वीर में आएंगे। उन ग्रहों की दशा-अन्तर दशा विवाह के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है, यदि वे अनेक हों तो नवमांश और प्रबल ग्रह जो अधिकांशतः विवाह को दर्शाता है, का निर्णय करें।

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

विम्सोत्तोरी दशा के माध्यम से ज्योतिष में विवाह समय कैसे जाने?

विवाह का सही समय जानने के लिए विमसोत्तरी दासा सबसे प्रभावी दशा है। इसकी कुछ शर्तें निम्न हैं।  

  • राहु की दशा/अन्तर्दशा तब महत्वपूर्ण होती है जब राहु किसी कोण, त्रिकोण, 3रे या 11वें भाव में हो।  
  • लग्न या चंद्रमा से सातवें भाव के स्वामी की दशा/अंतर दशा।
  • शुक्र की दशा/अंतर दशा।
  • लग्न स्वामी की दशा/अंतर दशा।
  • दसवें भाव के स्वामी की दशा/अंतर दशा।
  • लग्न या चंद्रमा से सातवें भाव में स्थित ग्रहों की दशा/अंतर दशा।
  • विवाह शुक्र के नैसर्गिक कारक से सातवें भाव के स्वामी की दशा/ अंतर दशा।
  • लग्न में स्थित ग्रहों की दशा/अंतर दशा।

मैं। केतु की दशा/अंतर दशा। अब आपके मन में एक प्रश्न आ सकता है कि पाप ग्रह होने के कारण केतु विवाह कैसे करा सकता है? दरअसल, यह सही है कि केतु सामान्य रूप से विवाह के समय का वादा नहीं कर सकता है, लेकिन जब यह केतु पहले या सातवें घर में होता है, तो ग्रह की अशुभता कभी नहीं रहती है और विवाह के लिए शुभ हो जाती है। अत: इस ग्रह की दशा/अन्तर दशा विवाह कराती है।

  • नवमांश के सातवें भाव के स्वामी की दशा/अंतर दशा।
  • द्वितीय भाव के स्वामी की दशा/अंतर दशा

शुक्र और चंद्र की दशा/ अंतर दशा में से कौन सबसे मजबूत होगी?

गोचर में बृहस्पति, शुक्र, चंद्रमा और बुध को सटीक विवाह समय प्राप्त करने के लिए मुख्य ध्यान मिलेगा। इन चार ग्रहों में से जो कोण या त्रिकोण में होगा वह ग्रह ही समय तय करेगा। लेकिन यदि कोई पाप ग्रह उस प्रधान ग्रह को सम्मान या सह-जुड़ने से प्रभावित करता है तो विवाह रद्द हो जाएगा।

कुंडली के नवमांश या D-9 से विवाह का समय:

जन्म कुण्डली के अतिरिक्त हमें नवमांश का भी निर्णय करना होता है, क्योंकि नवमांश विवाह की कुण्डली है और इसके द्वारा वैवाहिक जीवन के सभी रहस्य खुल सकते हैं। इसलिए, जन्म कुंडली के साथ-साथ नवमांश कुंडली का न्याय करना न भूलें, अन्यथा आपके सभी कार्य व्यर्थ होंगे। हमारे प्राचीन ग्रन्थों में और भी अच्छे योग हैं, लेकिन उनमें से आपको केवल उपयुक्त बिंदुओं का चयन करना है, जो आज के समाज के साथ मेल खा रहे हैं। शोध करें और अधिक ज्ञान प्राप्त करें।

ज्योतिषी जी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.