कुंडली में विवाह में विलम्ब/ देरी का योग और उपाय – वैदिक ज्योतिष

Late-Marriage-Delay-In-Marriage-In-Horoscope-Remedies-Vedic-Astrology

कुंडली में विवाह में विलम्ब/ देरी का योग और उपाय – वैदिक ज्योतिष: विवाह जीवन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। एक कहावत है कि पति-पत्नी एक दूसरे को पूरा करते हैं। अर्थात – हम इस संसार में अधूरे हैं, विवाह के माध्यम से हम एक सुखी और समृद्ध जीवन जीने के लिए पूर्ण होने का प्रयास करते हैं। वास्तव में हम पूर्ण होते हैं या नहीं यह विवादास्पद है। लेकिन, हाँ, एक बात स्पष्ट है – विवाह हमारे जीवन और समाज का एक अभिन्न अंग है।

जीवन के अन्य महत्वपूर्ण कारकों की तरह विवाह भी उचित समय पर ही होना चाहिए, अन्यथा इससे हमारे जीवन में कोई सकारात्मक परिवर्तन नहीं आता।

पहले देर से शादी के बहुत कम मामले थे लेकिन आजकल यह दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है और दो भागीदारों के बीच यौन मांगों के बेमेल होने के पीछे एक स्पष्ट कारण बनता जा रहा है जो जन्म दे रहा है – विवाहेतर संबंध , प्रसव संबंधी समस्याएं और अंत में तलाक।

इस देर से शादी की समस्या का प्रभाव इतना अधिक है कि अगर यह इसी तरह चला तो एक दिन ऐसा आएगा जब शादियां दुर्लभ हो जाएंगी और परिणामस्वरूप हमें एक असंतुलित समाज मिलेगा।

अन्य समस्याओं के समाधान की तरह ज्योतिष भी हमें इस प्रकार की गंभीर समस्याओं से बाहर निकलने का रास्ता बताता है, लेकिन इससे पहले आपको यह जानना होगा कि आपकी कुंडली में विवाह में देरी या देरी के योग हैं या नहीं।

तो, अपनी जन्मकुंडली निकालें और नीचे वर्णित अनुसार अपने चार्ट में ग्रहों के संयोजन के साथ इसका मिलान करें। यदि ये ग्रह संयोजन मौजूद हैं तो आप उसी समस्या का सामना करने जा रहे हैं जिसका सामना आजकल बहुत से लोग कर रहे हैं – वह है ” विवाह में देरी “।

ज्योतिषी जी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

कुंडली में विवाह में विलम्ब का योग और उपाय

देरी से शादी करने के कारण (सामाजिक):

देर से शादी की समस्या के पीछे वैसे तो कई कारण हैं , लेकिन यहां मैं उनमें से कुछ सामान्य का उल्लेख करने जा रहा हूं।

  1. विवाह के बारे में मिस-कॉन्सेप्ट।
  2. लोग दिन-ब-दिन ओवर-प्रोफेशनल होते जा रहे हैं।
  3. बहुत नकचढ़ा हो जाना।
  4. पारिवारिक निर्भरता या जिम्मेदारियां।
  5. शारीरिक बीमारी।
  6. आर्थिक समस्या आदि।

देर से विवाह ज्योतिष परामर्श

कुंडली में विवाह में देरी के ज्योतिषीय कारण

(शादी में देरी के ज्योतिषीय कारण)

इसके लिए ग्रह और भाव दोनों ही जिम्मेदार होते हैं। सभी ग्रहों में से कोई भी अशुभ ग्रह विवाह में देरी का कारण बन सकता है – जैसे – सूर्य, शनि, मंगल, राहु और केतु । सभी भावों में 8वें और 12वें भाव का प्रभाव विवाह में देरी को तय करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

देर से विवाह में शनि और राहु – ये दोनों मुख्य भूमिका निभाते हैं और सूर्य द्वितीयक भूमिका निभाता है।

कुंडली में देरी से विवाह होने के पीछे शनि का प्रभाव 

शनि किसी भी चीज में देरी करने का मुख्य कारक या कारक है। जब शनि किसी भी कार्य में देरी करता है तो इसका मतलब है कि वह आपको उस मामले के बारे में कुछ सिखाना चाहता है।

शनि एक महान शिक्षक हैं लेकिन यह हमें बृहस्पति की तरह नरम तरीके से नहीं बल्कि कठोर तरीके से पढ़ाते हैं। शनि आपको एक समस्या में डालता है – उस समस्या से सीखने के लिए, अपनी कमी दिखाने के लिए कि क्या विकसित करने की आवश्यकता है।

यदि विवाह में देरी के लिए शनि जिम्मेदार है अर्थात आप अभी तक विवाह के लिए तैयार नहीं हैं, तो आपको जीवन के बारे में अधिक जानने की आवश्यकता है। शनि एक ऐसा शिक्षक है जो आपको उस विशेष कार्य को न करने के लिए बाध्य करेगा जब तक कि आप उसके लिए तैयार नहीं होंगे, वह आपको कुछ कठोर शिक्षा देकर तैयार करेगा और फिर आपको जीवन का वह चरण देगा कि आप हमेशा सपना देखा था।

यदि शनि किसी तरह सप्तमेश, सप्तम भाव और या शुक्र से जुड़ा है तो आपको समझ लेना चाहिए कि शनि आपकी शादी तब तक नहीं होने देगा जब तक कि आपकी शिक्षा पूरी नहीं हो जाती, कुछ सीख अधूरी रह जाती है, आपको पहले क्या सीखना चाहिए शादी होना।

इस प्रकार की स्थितियों में शनि हमेशा मध्य आयु के बाद या उसके आसपास विवाह देता है – 32 या 35 वर्ष की आयु के बाद भी हो सकता है।

ग्रहों की अवधि जैसे – महादशा या अंतर्दशा के कारण इस समय को बदला जा सकता है। यदि सप्तम भाव का स्वामी शनि के साथ जुड़ा हुआ है तो वह वक्री या वक्री है, तो यह 35 वर्ष की आयु के बाद देर से हो सकता है। शुभ ग्रहों की दृष्टि या युति स्थिति को और खराब होने से रोक सकती है।

ज्योतिषी जी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

कुंडली में सूर्य का प्रवब और विवाह में देरी/ बिलम्ब 

( ज्योतिष में देरी से शादी के कारण )

सूर्य अनुशासन, अधिकार, शक्ति आदि का कारक है। जब सूर्य किसी जन्म कुंडली में प्रतिकूल स्थिति में होगा तो यह उन घरों के संबंध में खराब परिणाम देगा जिनसे यह जुड़ा हुआ है।

लग्न या लग्न किसी जन्म कुंडली की पूर्वी दिशा होती है और लग्न के ठीक विपरीत 7वां भाव पश्चिम दिशा होती है। पूर्व दिशा में सूर्य को दिशा बल प्राप्त होता है जो विशेष रूप से सूर्य के लिए अति आवश्यक है।

दिशा बल प्राप्त करना प्रत्येक ग्रह के लिए महत्वपूर्ण है लेकिन सूर्य के मामले में यह अन्य ग्रहों की तुलना में बहुत अधिक महत्वपूर्ण है।

यह समझने की कोशिश करें कि पूर्वी दिशा का मतलब सूर्य क्यों उदय हो रहा है, 10वें घर का सूर्य मतलब यह मध्याह्न में है जिसे मध्याह्न भी कहा जाता है और 7वें घर की स्थिति का मतलब सूर्यास्त है, यह अपनी अधिकतम शक्ति खो देता है, और चौथे घर का मतलब आधी रात है।

अपना चार्ट देखें – आपके सूर्य की स्थिति आपको बताएगी कि आपका जन्म समय क्या है। अब आप सोच रहे होंगे कि ये दिशात्मक ताकत शादी में देरी से कैसे जुड़ी है ना? यह जुड़ा हुआ है। यह मुझे कहना चाहिए कि इसके पीछे प्रमुख बिंदुओं में से एक है, लेकिन यह मत सोचो कि यह केवल एक ही है, कुछ अन्य कारक भी हैं।

यदि सूर्य को दिशा बल नहीं मिल रहा है तो इसका अर्थ है कि सूर्य आपको पूर्ण फल देने के लिए पर्याप्त बलवान नहीं है। कभी-कभी हम देख सकते हैं कि “राजयोग” से संबंधित सूर्य भी दिशा बल के अभाव में पूर्ण फल नहीं दे पाता है। अब इसे सप्तम भाव या स्वामी से जोड़ते हैं।

यदि सूर्य सप्तम भाव में बिना दिशा बल के मौजूद है लेकिन इस ग्रह के साथ कोई अन्य बली ग्रह जुड़ा है तो दूसरा ग्रह उस घर के संबंध में परिणाम देने वाला प्रमुख ग्रह होगा। यदि सूर्य “वर्गात्तमी” या उच्च का हो तो ग्रह युद्ध संभव है अन्यथा परिणाम दूसरे ग्रह द्वारा नियंत्रित होगा।

वहीं सूर्य के कारण विवाह में देरी नहीं होती है। जैसे – यदि दूसरा ग्रह बृहस्पति है तो विवाह उचित आयु में होगा या विवाह का नियंत्रण गुरु ही करेगा, सूर्य नहीं।

अंत में, मैं बहुत संक्षेप में कहना चाहता हूं कि – यदि सूर्य निर्णायक ग्रह है और यह किसी तरह सप्तम भाव या इसके स्वामी से जुड़ा है तो यह देर से विवाह करेगा।

लेकिन, हमेशा याद रखें, सूर्य हमेशा देर से शादी नहीं करता है , जब यह कोई परिणाम देने की स्थिति में होता है तभी देर से शादी करता है।

दरअसल, सूर्य की प्रतिकूल स्थिति हमेशा जीवन के उस हिस्से को अनुशासनहीन और असंगठित बना देगी। यदि यह विवाह-संबंधी घरों से जुड़ा है तो यह देर से विवाह देने से शुरू होगा और तलाक या दुखी वैवाहिक जीवन में समाप्त होगा या हो सकता है । पति-पत्नी के बीच समझ की कमी के कारण विवाहेतर संबंधों के लिए भी सूर्य जिम्मेदार होता है ।

कुंडली में मंगल का प्रवब और विवाह में देरी/ बिलम्ब

मंगल भी विवाह प्रभाव में देरी देता है , लेकिन हर समय नहीं। कुछ परिस्थितियों में मंगल शीघ्र विवाह या उचित समय पर विवाह भी कराता है । आज मैं सिर्फ शादी में देरी पर ध्यान दे रहा हूं, इसलिए मैं यहां उचित समय पर जल्दी शादी की बात नहीं करने जा रहा हूं।

एक अशुभ ग्रह के रूप में यदि मंगल विवाह-संबंधी भावों से जुड़ा है तो यह देर से विवाह देगा, लेकिन, यदि मंगल सप्तम भाव का स्वामी (तुला लग्न) है या बृहस्पति से दृष्ट है, तो इस प्रकार का मंगल देर से विवाह नहीं कर सकता है यदि अन्य देर से विवाह के संकेत चार्ट में मौजूद नहीं हैं।

विवाह संबंधी किसी भी भाव में शुक्र और मंगल की युति विवाह में देरी के लिए जिम्मेदार हो सकती है। यदि किसी कुण्डली में “मांगलिक दोष” है तो आपको 28 वर्ष की आयु से पहले विवाह नहीं करना चाहिए।

कुंडली में राहु और केतु का प्रवब और विवाह में देरी/ बिलम्ब

राहु और केतु दो पाप ग्रह हैं और ये भी विवाह में देरी का कारण बनते हैं। यदि राहु या केतु विवाह-संबंधी भावों विशेष रूप से सप्तम भाव या स्वामी से जुड़ता है तो यह विवाह में देरी की ओर संकेत करेगा।

लेकिन, यहां याद रखें कि नक्षत्र स्वामी और दो ग्रहों के जमाकर्ता अंततः इन दोनों ग्रहों के परिणामों को नियंत्रित करेंगे – वे देर से शादी करेंगे या नहीं। मैंने बहुत सी कुण्डलियों में राहु-केतु का प्रभाव विवाह सम्बन्धी भावों पर देखा है परन्तु उनका विवाह उचित आयु में ही हो गया।

अब वैवाहिक जीवन सुखी होगा या नहीं यह अलग बात है लेकिन राहु-केतु के प्रभाव का मतलब हमेशा देर से शादी करना नहीं होता है, लेकिन अगर स्थिति ऊपर जैसी नहीं है तो यह निश्चित रूप से देर से शादी देगी।

यदि इन दोनों ग्रहों के नक्षत्र स्वामी या जमाकर्ता अशुभ या पाप ग्रह हैं और विवाह संबंधी किसी भाव से भी जुड़े हैं तो विवाह में देरी निश्चित है।

ज्योतिषी जी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

ज्योतिष में कुंडली के १२ भाव और विवाह में देरी/ बिलम्ब

( ज्योतिष के अनुसार विवाह में देरी के कारण )

अब घर के मामलों पर ध्यान देते हैं। सप्तम भाव विवाह का मुख्य भाव है, अष्टम भाव दाम्पत्य सुख और बारहवां भाव शैया सुख का प्रतिनिधित्व करता है।

यदि 7वां घर खाली हो जाता है, तो इसका मतलब किसी भी ग्रह की स्थिति और दृष्टि से रहित है, जिससे घर बहुत कमजोर हो जाएगा। विवाह में विलम्ब देगा।

यदि सप्तम भाव पर केवल कई पाप ग्रहों की दृष्टि होगी और किसी भी शुभ ग्रह की दृष्टि नहीं होगी तो यह विवाह में देरी की ओर संकेत करेगा। इस प्रकार के मामलों में कभी-कभी विवाह होता ही नहीं है।

8वां और 12वां भाव दोनों ही पाप भाव हैं। तो, अन्य पाप ग्रहों की तरह अगर 8वें घर या 12वें घर या उसके स्वामी विवाह से संबंधित घरों, विशेष रूप से 7वें घर से कोई संबंध बनाते हैं, तो यह देर से शादी का संकेत देगा। गृह मामलों के मामले में ग्रहों की युति का भी ठीक से आंकलन करना चाहिए।

अंत में, 7 वें और 12 वें घर – 7 वें  और 8 वें घर और अंत में 7 वें और 6 वें  घर के बीच कोई भी संबंध विवाह में देरी का कारण बन सकता है।

यदि मंगल सूर्य या गुरु से सप्तम भाव में हो और शनि चन्द्रमा से सप्तम  भाव में हो या सह युति हो तो जातक का विवाह अधेड़ उम्र की कन्या से होता है।

सप्तम भाव में शुक्र और बुध की युति हो तो जातक को जीवन भर अविवाहित रखा जा सकता है, लेकिन गुरु की युति या दृष्टि योग हो तो विवाह देर से होता है।

जब चंद्रमा और शुक्र सप्तम भाव में युति करते हैं और मंगल और शनि से बुरी तरह पीड़ित होते हैं तो विवाह में बाधा आ सकती है, लेकिन अगर बृहस्पति सप्तम भाव  या मंगल और शनि को देखता है तो जातक का विवाह अधेड़ उम्र में होगा।

यदि लग्न, चंद्र और शुक्र से सप्तम भाव पाप ग्रहों से पीड़ित हो तो देर से विवाह हो सकता है।

ज्योतिष में कुंडली के वक्री ग्रह और विवाह में देरी/ बिलम्ब 

देर से विवाह में वक्री ग्रह भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हम जानते हैं कि विवाह से संबंधित भाव – 2रा, 7वाँ और 11वाँ भाव होते हैं। यदि कोई विवाह से संबंधित गृह स्वामी वक्री है तो उस गृह मामले के कारण विवाह में देरी होगी।

उदाहरण के लिए – यदि दूसरा भाव वक्री है तो देर से शादी करने के पीछे वित्तीय मामला मुख्य कारण होगा। यदि सप्तम भाव वक्री है तो काफी खोज आदि के बाद उपयुक्त साथी मिलना मुश्किल होगा। सभी के लिए परिणाम एक ही होगा जिसका मतलब यह नहीं है कि एक घर केवल एक मामले को इंगित नहीं करता है।

एक घर कई प्रकार के मामलों को इंगित करता है, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से हमारे जीवन से जुड़ा होता है। कारण कुछ भी हो लेकिन विवाह भावों का वक्री होना विलम्ब विवाह अवश्य देगा।

यहां तक ​​​​कि अगर उपरोक्त ग्रह वक्री हैं या कोई वक्री ग्रह विवाह से संबंधित घरों से जुड़ा है तो यह भी विवाह में देरी दे सकता है। कभी-कभी ऐसा देखा गया है कि – यदि चतुर्थ और द्वादश भाव वक्री हो या इन दोनों भावों का संबंध वक्री ग्रहों से हो तो भी विवाह में देरी होती है।

D-9 या नवमांश और कुंडली में विवाह में विलंब

जन्म कुण्डली के अतिरिक्त हमें नवमांश का भी निर्णय करना होता है, क्योंकि नवमांश विवाह की कुण्डली है और इसके द्वारा वैवाहिक जीवन के सभी रहस्य खुल सकते हैं।

इसलिए, जन्म कुंडली के बगल में नवमांश चार्ट को आंकना न भूलें, अन्यथा आपके सभी कार्य व्यर्थ होंगे। हमारे प्राचीन ग्रन्थों में और भी योग हैं लेकिन उनमें से आपको केवल उपयुक्त बिंदुओं का चयन करना है, जो आज के समाज के साथ मेल खा रहे हैं। शोध करें और अधिक ज्ञान प्राप्त करें।

कुंडली में विवाह में देरी के उपाय/ रेमेडीज

(विलंब विवाह समस्या ज्योतिष शास्त्र / विवाह में देरी के उपाय)

जन्म कुण्डली से विवाह में देरी का पता लगाने के बाद अब समय आ गया है कि सटीक उपचारात्मक प्रक्रिया का चयन किया जाए ताकि समस्या का समाधान हो सके।

रत्न: सही रत्न का चयन करने के लिए हमें बहुत सावधानी से देखना होगा कि कौन सा ग्रह देर से विवाह के लिए जिम्मेदार है। हमेशा याद रखें, किसी भी पाप ग्रह या किसी भी पाप भाव के स्वामी को बल न दें।

विवाह सम्बन्धी भावों का स्वामी यदि कोई पाप ग्रह हो तो वह ग्रह विचाराधीन हो सकता है। किसी भी उपाय का चयन करते समय नवमांश/D-9 कुण्डली को अनदेखा न करें, क्योंकि D-9 विवाह के लिए मुख्य कुण्डली है।

रत्नों के बिना भी एक विशेष प्रकार का उपाय है जो रत्नों से भी अधिक कुशलता से और जल्दी से काम करेगा, लेकिन उसका पालन आपकी कुंडली के अनुसार किया जाना चाहिए और वहां एक और चार्ट शामिल होगा जिसे “कूर्म चक्र” कहा जाता है। सावधान रहें, यदि आप कोई गलत उपाय चुनते हैं तो यह आपको नुकसान पहुंचा सकता है या बिल्कुल भी काम नहीं कर सकता है और परिणामस्वरूप, यह पैसे और समय की बर्बादी होगी।

ज्योतिषी जी से बात करें

Google Play Store पर हमारे ऐप्स

ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम में नामांकन करें

We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.