१२ / बारहवें भाव में सूर्य का फल – प्रेम, करियर, विवाह, हानि, स्वास्थ्य, कारावास/ जेल

१२ / बारहवें भाव में सूर्य का फल – प्रेम, करियर, विवाह, हानि, स्वास्थ्य, कारावास/ जेल
12वें भाव में सूर्य प्रेम, शय्या सुख, निद्रा, हानि और व्यय, परेशानी, कारावास/ जेल, विदेशी संबंध/ निवास और निवासी, विवाह:- 12वें भाव में सूर्य सरकार के माध्यम से कुछ न कुछ लाभ देता है। प्रतियोगिता के माध्यम से जातक को सफलता मिल सकती है। सरकारी सेवा में जातक को कोई उच्च पद प्राप्त हो सकता है। जातक को जीवन में कुछ राजनीतिक सफलता मिल सकती है। बारहवें भाव में सूर्य जीवन में बार-बार लंबी यात्राएं देता है।

सभी लग्नों के लिए सूर्य लग्न से बारहवें घर में है होने का फल

इस घर में सूर्य अकेलेपन में रहने का आदत और रचनात्मकता के लिए जाना जाता हे। बारहवें भाव में सूर्य भी विदेश में दूर के स्थानों में जीवन में कुछ यात्रा देता है। इस बारहवें भाव में सूर्य सरकार और सत्ता से सुख और धन लाभ भी देता है। जातक के जीवन में विशेष रूप से 40 वर्ष की आयु के बाद उच्च वर्ग की आय होगी एबं जातक स्वतंत्र होगा और अपनी मेहनत से कमाएगा।
लग्न से १२वें घर में सूर्य का सभी लग्न पर सामान्य प्रभाव कुछ बाते:- 12 वें घर में सूर्य का प्रभाव और परिणाम 12 वें घर में अलग-अलग राशि के स्थान के रूप में अलग-अलग हो सकते हैं, हानिकारक और लाभकारी गरिमा, डिग्री, पहलू, क्लेश, संयोजन, 12वें भाव में सूर्य की युति, विभिन्न नक्षत्रों में सूर्य (नक्षत्र) के साथ-साथ 12वें भाव की ताकत और गरिमा ऊपर निर्भर करेगा।
इस भाव में स्थित सूर्य अच्छी आयु और आयु प्रदान करता है लेकिन जीवन के मध्य वर्ष से स्वास्थ्य परेशान  करना शुरू करता है। जातक अपने और परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य के लिए भी चिंतित रहेगा। यहां का सूर्य जातक को उनकी कमियों से बचाता है और बहुत कम उम्र में भी जीवन में अच्छी बुद्धि देता है।
जातक को बचपन और कम उम्र में आर्थिक परेशानी या विवशता का सामना करना पड़ सकता है लेकिन बे बुढ़ापे में धनवान बन जाएंगे। इस भाव में सूर्य जातक को कुछ कानूनी जटिलताओं और मुकदमों में शामिल कर सकता है। जातक को विदेश में भी किसी कानूनी मुकदमे का सामना करना पड़ सकता है। सूर्य बारहवां भाव में होने के कारन जीवन में बहुत तरह के हानि और दुख देता है। उनकी कम उम्र में ही पिता की मृत्यु हो सकती है। जातक बहुत कम उम्र से ही अपने जन्म स्थान से दूर रहेगा। जीवन में पारिवारिक सहयोग कम मिलेगा।

 लव लाइफ और – कुंडली में सूर्य बारहवें घर में होने का फल

इस भाव में सूर्य आपको प्रेम प्रसंग में बहुत निराशा और दुख दे सकता है। इस विशेष स्थान के साथ सूर्य के कारण प्रेम संबंध अल्पकालिक हो सकते हैं। प्रेम प्रसंग अल्पकालिक और अधूरे रहेंगे। जातक को जीवन में मानसिक और भावनात्मक रूप से बहुत कष्ट हो सकता है। जीवन में कई बार दिल टूटने के कारण जातक भावनात्मक रूप से थक जाता है।
उसके जीवन में प्यार और रोमांस के क्षण आएंगे लेकिन यह अल्पकालिक होगा। जीवनसाथी जीवन में किसी समय जातक को धोखा भी दे सकता है। प्रेम जीवन कष्टदायक रहेगा लेकिन विपरीत लिंग के साथ कई आकस्मिक मित्रता और मामले होंगे जो जातक के लिए जीवन में कुछ आनंद देंगे लेकिन थोड़े समय के लिए।

बारहवें घर में सूर्य होने का फल – विवाह और बिस्तर सुख/ सेक्स

इस घर में सूर्य विवाह के बाद जीवन में किसी प्रकार की परेशानी और बिस्तर सुख की कमी देता है। जातक को शारीरिक अनुकूलता, यौन अंगों, शुक्राणुओं की संख्या आदि से संबंधित कुछ समस्याएं हो सकती हैं। इस घर में सूर्य अपनी सेक्स लाइफ से असंतुष्ट रहते हैं।
इस घर में सूर्य बहुत अधिक हस्तमैथुन करने की आदत देता है। यहां का सूर्य रिश्तों में भी भावनात्मक उथल-पुथल देता है, खासकर शादी में। जातक के दाम्पत्य जीवन में अस्थिरता रहेगी। हालाँकि, विवाहित जीवन सामान्य रूप से सामान्य और ठीक रहेगा। शादी के बाहर गुपचुप अफेयर संभव है। शादी के बाहर बिस्तर सुख संभव है लेकिन ऐसा अक्सर नहीं होता।
करियर और – कुंडली में सूर्य बा रहवें घर में होने का फल
बारहवें घर में सूर्य गैर सरकारी संगठन, सरकार, दूतावास आदि के माध्यम से विदेशी भूमि में व्यवसाय और वृद्धि के लिए एक आव्रजन निरीक्षक बन सकता है या पासपोर्ट कार्यालय में काम कर सकता है। जब सूर्य इस भाव में होता है तो आपको एक अच्छा राजनयिक बना सकता है और दूतावास में उच्च पद प्राप्त कर सकता है।
बारहवें भाव में सूर्य आपको किसी लोकप्रिय प्रतिष्ठित कॉलेज और विश्वविद्यालय में लेखक या प्रोफेसर भी बना सकता है। बारहवें भाव में सूर्य अमूर्त कलाकार और कवि भी बना सकता है।
कुंडली में सूर्य बारहवें भाव में और – हानि/ व्यय
इस भाव में सूर्य विशेष रूप से पिता के कारण परिवार में कुछ परेशानी दे सकता है। पिता के साथ संबंध अच्छे नहीं रहेंगे। इस भाव में स्थित सूर्य जीवन में उच्च श्रेणी का विलासिता प्रदान करता है। जातक अपनी गाढ़ी कमाई को जीवन में बहुत खुलकर खर्च करता है।
फ्लैट, दवाएं, संपत्ति आदि खरीदने पर खर्च होगा। परिवार में कई स्वास्थ्य जटिलताओं और जीवन में अचानक दुर्घटनाओं के कारण भी जातक को बहुत अधिक धन की हानि हो सकती है। जातक के जीवन में चिकित्सा व्यय और यात्रा व्यय अधिक होगा। प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़, चक्रवात, भूकंप आदि के कारण जातक के जीवन में कुछ नुकसान हो सकता है। जातक जीवन में स्वतंत्र रूप से धन खर्च करेगा।
बारहवें घर में सूर्य होने का फल – स्वास्थ्य और अस्पताल में भर्ती

इस घर में सूर्य की स्थिति के कारण जातक को कुछ गहरी नींद आ सकती है। वहाँ किसी न किसी कारण से हमेशा नींद में खलल पड़ सकता है और वह अनिद्रा का शिकार हो सकता है। जातक को कुछ भयानक सपने भी आ सकते हैं। जातक की आंखों के नीचे काले घेरे होंगे। जातक को पूरा शांति से रात की नींद नहीं आएगा।

वृद्धावस्था में जातक के लिए वहां कारावास की संभावना बनी रहेगी। इस घर में सूर्य पाचन संबंधी समस्या और जीवन में समस्याएं भी देता है। जातक को एलर्जी, खालित्य, जिल्द की सूजन आदि जैसी त्वचा संबंधी समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। इस घर में सूर्य की स्थिति के कारण जातक को जीवन में निरंतर वित्तीय कमाई और लाभ के मामले में संघर्ष करना पड़ता है।
इस घर में सूर्य वाहन दुर्घटना, आग दुर्घटना आदि के कारण अस्पताल में भर्ती होने और सर्जरी की संभावना देता है। यद्यपि आप सर्जरी के बाद भी खराब स्वास्थ्य और दुर्घटना से बहुत जल्दी ठीक हो सकते हैं लेकिन लीवर की जटिलता और पाचन विकार, अपेंडिक्स, आंत की समस्या आपको बहुत परेशान कर सकती है। जीवन के मध्य वर्षों में।
इस बात की प्रबल संभावना है कि जातक विदेश में राजनयिक, विदेशी अधिकारी या सरकारी क्षेत्र में किसी भी प्रकार के पद पर बस सकता है। सरकारी नौकरी से विदेश में जातक का सपना पूरा हो सकता है। जातक को विदेशी सरकार और अधिकारियों से भी लाभ मिलेगा।
जातक 29 या 44 वर्ष की आयु के बाद स्थायी रूप से विदेश में बस सकता है। जातक का विदेश में अच्छा ठोस और प्रभावशाली संपर्क होगा। जातक भोजन करने वाला होगा और जीवन में विभिन्न अंतरमहाद्वीपीय भोजन का आनंद लेगा। जातक जीवन में विदेशी भाषाएं और विदेशी संस्कृति सीखेगा।
जन्म कुण्डली में सूर्य बारहवें भाव में – और कारावास/ जेल
द्वादश भाव/घर में सूर्य आपको सरकारी अधिकारियों के साथ संघर्ष, मुकदमेबाजी के मुद्दे, विरासत के मुद्दे या सार्वजनिक हिंसा के मुद्दे, धन धोखाधड़ी आदि के कारण जेल में डाल सकता है। लेकिन इस घर में सूर्य केवल कुछ वर्षों के लिए कारावास दे सकता है जब सूर्य जुड़ा हो छठे भाव का स्वामी, आठवां स्वामी या बारहवां स्वामी या सूर्य स्वयं या तो छठे या आठवें या बारहवें भाव का स्वामी है।
वैदिक ज्योतिष में बारहवें घर में सूर्य का विशेष प्रभाव
जातक विदेश में समृद्ध और धनवान बनेगा। इस भाव में स्थित सूर्य जीवन में नेत्र रोग या मोतियाबिंद नेत्र देता है। जातक जीवन में किसी सर्जरी के लिए जा सकता है। बारहवें भाव में सूर्य भी जीवन में अचानक दुर्घटना की संभावना देता है। बारहवें घर में सूर्य स्वास्थ्य और मुख्य रूप से चयापचय में कुछ समस्या भी देता है। जातक को कम उम्र में जीवन में कुछ पोषण की कमी का सामना करना पड़ सकता है।
सूर्य उसे पूंजी, धन की धोखाधड़ी या अधिकार के साथ कुछ झगड़े के कारण या अधिकार के आंकड़े के कारण कुछ साल की कैद दे सकता है। इस भाव में स्थित सूर्य जीवन में कम समय के लिए गुप्त यौन सुख देता है। जातक के कम उम्र में पिता के साथ संबंध खराब हो सकते हैं। इस बारहवें भाव में सूर्य 40 वर्ष की आयु के बाद जीवन में विदेशी निवास देता है।
We use cookies in this site to offer you a better browsing experience. By browsing this website, you agree to our use of cookies & privacy policies.